जिस प्रकार कोई भी कार उसके चालक से अधिक महत्वपूर्ण नहीं हो सकती, उसी प्रकार शरीर आत्मा से अधिक महत्त्वपूर्ण नहीं हो सकता

Donate for Gitalaya