यदि जीवन का लक्ष्य केवल मजे करना हो तो ऐसी जीवन पद्धति में नैतिकता स्थान नहीं पा सकती।

Donate for Gitalaya