भाग्य और कुछ नहीं वरन आपके पिछले कर्मों के फल हैं।

Donate for Gitalaya