शुद्ध भक्त प्रज्वलित अग्नि के समान है जिसकी संगति से हमारे अंदर भी कृष्ण प्रेम की अग्नि प्रज्वलित हो जाती है

Donate for Gitalaya